तुंगनाथ (तृतीय केदार) यात्रा -Part #2 Atul Naithani

वैसे तो हमारा विचार था कि 16JUNE2017 आज ही सारी गांव पहुंच जाते तो अगली सुबह देवरिया ताल से तुंगनाथ के लिए पैदल ऊपर ऊपर ट्रेकिंग करते जो कि लगभग 14-16km. की है । अगली सुबह मन्दाकिनी के शोर में […]

Read More

तुंगनाथ (तृतीय केदार) यात्रा Part #1 Atul Naithani

कई दिनों से बन रहे यात्रा कार्यक्रम को अमलीय जामा पहनाया गया। मेरे मित्र Ankit Pant ने बताया था कि नैथानी जी तुंगनाथ व देवरिया ताल एक ऐसी जगह है जहाँ आप एक बार जाओगे तो उम्र भर उस जगह को याद […]

Read More

#स्पिति_घाटी Atul Naithani Part #7

ताबो में शाम को ठंड ने बाहें खोल ली थी। ड्राइवर भैया का एक परिचित होम स्टे था। तो 800₹ में दो कमरे मिल गए। ठिठुरन भरी रात का अंत हुआ। प्रातः पहाड़ों की एक ओर चहचहाती सुबह ने दस्तक […]

Read More

#स्पिति_घाटी Atul Naithani Part #6

आज अंकित ने हमारी ताकत की परीक्षा का इंतजाम कर लिया था। वो ठान चुका था कि आज पिंजर गाँव से किब्बर की ओर पैदल ही जाया जाएगा और यदि बीच में गाड़ी मिल गयी तो उसमें बैठ लेंगें। पर […]

Read More

#स्पिति_घाटी Atul Naithani Part #5

असमंजस की स्थिति को छोड़ आगे शांति की राह में बढ़ चले और शांति की प्रतिमा ( बौद्ध प्रतिमा ) के पास आ पहुँचे। कुछ देर विचारविमर्श हुआ और निष्कर्ष पर पहुँचे कि : “अभि” वापस गाड़ी की ओर जाएगा। […]

Read More

#स्पिति_घाटी Atul Naithani Part #4

बिस्तर में घुसते ही अभि ने मोबाइल को जिंदा कर लिया लेकिन उसके मुखपटल पर उदासी साफ दिखाई दे रही थी। जिस प्रकार से जिंदगी में उत्साह के अभाव में शरीर के जीवित रहने से कोई खुशी नहीं होती वैसे […]

Read More

#स्पिति_घाटी Atul Naithani Part #3

#स्पिति_घाटी खाब संगम पुल एक अविश्वसनीय मनमोहक स्थान में से एक है। यहाँ आप प्रकृति के सृजनकला का अनूठा रूप देखते हैं। ढेर सारी चित्रों को अपने चित्रखीचन यंत्र में सहेज कर हम नाश्ते के लिए संगम में एकमात्र ढाबे में […]

Read More

#स्पिति_घाटी Atul Naithani Part #2

मन व्याकुल था अब तो पता भी नहीं था कि जाना कहाँ है और कहाँ तक जाना है। पहाड़ी रास्ते में अब प्रकृति अपने मनमोहक रंग बिखेरने लगी। मानव निर्मित यह रास्ता भी अलग ही दुनिया में जाने का संदेश […]

Read More

यात्रा #स्पिति_घाटी की Atul Naithani #1

सितम्बर माह के अंत में मानसून जाने को था और मेरे मन में घूमने की इच्छा प्रबल रूप से ज्वलित हो रही थी। अपनी टोली से बात की गई पूर्व भारत का कार्यक्रम बनता तो कभी बिगड़ता। Mahendra ( माही) और मैं […]

Read More